सर्वनाम किसे कहते हैं?❤️ Pronoun in Hindi - Sarvanam Kise Kahate Hain

सर्वनाम किसे कहते हैं = जिन शब्दों का इस्तेमाल संज्ञा शब्द के स्थान पर प्रयुक्त होता है। उन शब्दों को सर्वनाम कहते हैं।
यदि हम साधारण शब्दों में देखे तो "संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्द सर्वनाम कहलाते हैं।" जैसे कि मैं , हम , तुम , तू , वह , यह आदि।


सर्वनाम के बारे में - Pronoun in Hindi
सर्वनाम किसे कहते हैं | सर्वनाम के भेद व प्रकार | उदाहरण सहित - sarvanam kise kahate hain

दोस्तो आपको Sarvanam के बारे में हम पहले ही आपको बता दे की संज्ञा के बाद में यदि कोई Hindi Vyakaran का महत्वपूर्ण अच्छा और विशेष टॉपिक कोई है, तो वो सर्वनाम को माना जाता है
आपको एक बात बता दे की को जो भी इसके बारे में इंटरनेट पर जानकारी के लिए खोजते है वो हमेशा ही सर्वनाम किसे कहते हैं? क्या है? इसके भेद व प्रकार आदि लिखकर ही सर्च करते हैै। तो आइए अब इसके बारे में लेख को प्रारंभ करते है।

सर्वनाम किसे कहते हैं? परिभाषा - Pronoun in Hindi

वैसे तो लेख के प्रारंभ में ही आपको इसकी सटीक व सही परिभाषा को मैंने बताया था लेकिन एक बार और रिवीजन के तौर पर देखें!
"संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्द सर्वनाम हैं।"

जैसे कि:—
मैं, हम, तुम, तू, वह, यह आदि सर्व-नाम है।

कामताप्रसाद गुरू के अनुसार - सर्वनाम उस विकारी Shabd को कहते हैं, जो पूर्वापर संबंध से किसी भी संज्ञा के बदले में आता है।
 जैसे, मैं (बोलनेवाला), तू (सुननेवाला), यह (निकट-वर्ती वस्तु), वह (दूरवर्ती वस्तु)।

वाक्य में जिस शब्द का प्रयोग संज्ञा के बदले में होता है, उसे सर्वनाम कहते हैं। 

सर्वनाम शब्द का अर्थ है- सब का नाम

संज्ञा जहाँ केवल उसी नाम का बोध कराती है, जिसका वह नाम है, वहाँ सर्वनाम से केवल एक के ही नाम का नहीं, सबके नाम का बोध होता है।


जैसे कि रेखा कहने से केवल इस नाम लड़की का बोध होगा किन्तु यदि मीरा, सीमा, राहुल, विजय सभी अपने लिए मैं का प्रयोग करते हैं तो मैं इन सबका नाम होगा।
        

इसी तरह बोलनेवाले अनेक नामों के बदले तुम या आप और सुननेवाले अनेक नामों के बदले वह या वे का प्रयोग होता है।

Hindi के मूल Sarvanam ग्यारह हैं, जैसे- [मैं, तू, आप, यह, वह, जो, सो, कौन, क्या, कोई, कुछ]


सर्वनाम के भेद या प्रकार – Type Of Pronoun In Hindi

सर्वनाम किसे कहते हैं | सर्वनाम के भेद व प्रकार | उदाहरण सहित । sarvanam kise kahate hain
प्रयोग की अनुसार सर्वनाम के छ: प्रकार हैं!
सर्वनाम के प्रकार को नीचे में क्रम से लिख रहा हूं आगे लेख में उन्हें विस्तार से भी बताया गया है


Sarvanam के सभी भेद या प्रकार विस्तार पूर्वक अध्ययन करें!

1] पुरुषवाचक सर्वनाम (मैं, तू, वह, हम, मैंने)
जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग वक्ता द्वारा अपने लिए या दुसरो के लिए किया जाता है, उस को पुरुषवाचक सर्वनाम कहेंगे।

जैसे:- मैं, हम (वक्ता द्वारा अपने लिए), तुम तथा आप (सुनने वाले के लिए) और यह, वह, ये, वे (किसी और या तीसरे के बारे में बात करने के लिए) आदि।

पुरुषवाचक Sarvanam के उदाहरण
   •मैं क्रिकेट खेलना चाहता हूँ।
   •मैं जाना चाहता हूँ।

पुरुषवाचक सर्वनाम के भी तीन भेद होते हैं जो कि नीचे दिए हैं.
1] उत्तमपुरुष, 2] मध्यम पुरुष एवं 3] अन्य पुरुष

उत्तमपुरुष:- जिन शब्दों का प्रयोग बोलने वाला अपने लिए करता है। उत्तमपुरुष में मैं, मेरा, मेरी, मेरे, मुझे, मुझको, हम, हमें, हमको, हमारे, हमारी, हमारा जैसे शब्द आते हैं।
उदाहरण: मैं क्रिकेट खेलता हूँ।

मध्यम पुरुष- जिन शब्दों का प्रयोग सुनने वाले के लिए किया जाता है। उन्हें मध्यम पुरुष सर्वनाम कहते हैं। इसमें तू, तुझको, तुझे, तेरे, तेरी, तेरा, तुम्हे, तुमको, तुम, तुम्हारे, तुम्हारी, तुम्हारा, आप जैसे शब्द आते हैं।
उदाहरण: तुम बहुत सुंदर हो।

अन्य पुरुष- जिन शब्दों का प्रयोग किसी तीसरे व्यक्ति के बारे में बात करने के लिए होता है।उस अन्य पुरुष सर्वनाम कहेंगे। इनमे यह, वह, ये, वे जैसे आते हैं।
(पुरुषवाचक सर्वनाम के बारे में गहराई से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – पुरुषवाचक सर्वनाम – भेद, उदाहरण...)
    



2] निश्चयवाचक सर्वनाम (यह, वह)
जिन सर्वनाम शब्दों से किसी वस्तु, व्यक्ति या स्थान की निश्चितता का बोध होता है। उनको निश्चयवाचक सर्वनाम कहेंगे।
जैसे कि - यह, वह आदि।
उदाहरण:
   1. यह कार मेरी है।
   2. वह कार उनकी है।
   3. वे दोस्त हैं।

ऊपर बताए गए वाक्यों में यह, वह, ये, वे आदि का उपयोग वस्तु, व्यक्ति आदि की निश्चितता का बोध कराने के लिए किया गया हैं। इसलिए ये शब्द निश्चयवाचक सर्वनाम है। 
(निश्चयवाचक सर्वनाम के बारे में गहराई से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – निश्चयवाचक सर्वनाम – भेद, उदाहरण...)


3] निजवाचक सर्वनाम (आप)
वे शब्दों का प्रयोग वक्ता किसी चीज़ को अपने साथ दर्शाने या फिर अपनी बताने के लिए करता है, उसे निजवाचक सर्वनाम कहेंगे।
उदाहरण:
   •मैं अपनी कार को स्वयं ही खरीद लूँगा।
   •मैं आप वहीं से आया हूँ।

ऊपर बताए गए वाक्यों में वक्ता ने अपने स्वयं के लिए स्वयं और अपने आप शब्दों का प्रयोग कामों को खुद से जोड़ने के लिए किया।

जहाँ आप शब्द का प्रयोग श्रोता के लिए हो वहाँ यह आदर-सूचक मध्यम पुरुष होता है। और जहाँ आप शब्द का प्रयोग अपने खुद के लिए हो वहाँ निजवाचक होता है।
(निजवाचक सर्वनाम के बारे में गहराई से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – निजवाचक सर्वनाम – भेद, उदाहरण...)

ये भी पढ़ें:

हिंदी व्याकरण Complete Hindi Grammar-

भाषा Bhasha,   वर्णमाला Varnmala,   वर्ण Varn,  


4] प्रश्नवाचक सर्वनाम (कौन, क्या)
जिन शब्दों का प्रयोग किसी वस्तु, व्यक्ति आदि के बारे में कोई सवाल पूछने या फिर उसके बारे में जानने के लिए किया जाता है, वे शब्दों को प्रश्नवाचक सर्वनाम कहेंगे।
जैसेकौन, क्या, कब, कहाँ आदि!

प्रश्नवाचक सर्वनाम के उदाहरण नीचे हैं:-
   1. तुम-कौन हो?
   2. तुम्हें क्या चाहिए?

ऊपर दिए वाक्यों में कौन तथा क्या शब्दों का प्रयोग करके किसी व्यक्ति या उस व्यक्ति के बारे में जानने की कोशिश की जा रही हैं! इसलिए यहां प्रश्नवाचक सर्वनाम हैं।
(प्रश्नवाचक सर्वनाम के बारे में गहराई से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – प्रश्नवाचक सर्वनाम – भेद, उदाहरण)


5] सम्बन्धवाचक सर्वनाम (जो, सो),
जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग किसी वस्तु या किसी व्यक्ति का सम्बन्ध बताने के लिए किया जा रहा हो। उन्हें सम्बन्धवाचक सर्वनाम कहेंगे।
जैसे: जो-सो, जैसा-वैसा आदि।
उदाहरण
   1. जो सोवेगा सो खोवेगा।
   4. जैसी करनी वैसी भरनी।
ऊपर बताए गए वाक्यों में जो-सो  व  जैसे-वैसे शब्दों का प्रयोग करके किसी वस्तु या किसी व्यक्ति में सम्बन्ध बताया जा रहा हैं! इसलिए यह सम्बन्धवाचक सर्वनाम शब्द है।
(सम्बन्धवाचक सर्वनाम के बारे में गहराई से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – सम्बन्धवाचक सर्वनाम – भेद, उदाहरण...)


    • अव्यय किसे कहते हैं? एवं अव्यय कितने होते है


6] अनिश्चयवाचक सर्वनाम (कोई, कुछ)
जिन सर्वनाम शब्दों से वस्तु, व्यक्ति, स्थान आदि की निश्चितता का बोध नही होता है वहां अनिश्चयवाचक सर्वनाम हैं।
जैसे: कुछ, कोई आदि।
उदाहरण:
   1. मुझे कुछ लेना है।
   2. मुझे कोई नहीं देखता।
ऊपर बताए गए सभी वाक्यों में वक्ता सिर्फ अंदाजा लगा रहा है। लेकिन हमे व्यक्ति की निश्चितता का कोई बोध नहीं हो रहा है! इसलिए कुछ, कोई आदि शब्द अनिश्चयवाचक सर्वनाम शब्द हैं।
(अनिश्चयवाचक सर्वनाम के बारे में गहराई से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – अनिश्चयवाचक सर्वनाम – भेद, उदाहरण...)


समय-समय पर इस लेख को अपडेट किया जाएगा और ओर भी ज्यादा सर्वनाम शब्द के उदाहरणों को इसमें जोड़ दिए जाएंगे।


सर्वनाम किसे कहते हैं। (Sarvanam kise kahate hain) सर्वनाम के भेद व प्रकार उदाहरण सहित बताया था, यदि वह आपको अच्छी लगी हो तो कृपया नीचे कमेंट करके अवश्य जाएं। और हमें सोशल मीडिया जैसे फेसबुक ट्विटर इंस्टाग्राम एवं व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया पर शेयर करें और हमें सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर फॉलो करें।

ये भी पढ़ें:

हिंदी व्याकरण Complete Hindi Grammar-


उपसर्ग Upsarg,    क्रिया विशेषण Kriya Visheshan,    संधि Sandhi,    प्रत्यय Pratyay,    क्रिया Kriya,    वचन Vachan,

------------♦------------

Read More Posts 

कारक किसे कहते हैं? परिभाषा

Karak in Hindi Grammar कारक की परिभाषा , भेद और उदाहरण- "कारक उसे कहते हैं, जो Vakya में आये संज्ञा आदि शब्दों का क्रिया के साथ संबंध बताती ...

विशेषण किसे कहते हैं? प्रकार | भेद | परिभाषा

Visheshan kise kahate hain. वे शब्द जो Sangya या Sarvanam की विशेषता बताएं विशेषण होते हैं...

लिंग किसे कहते हैं? लिंग कितने होते है

Ling kise kahate hain. जिस चिह्न से यह बोध होता हो कि अमुक शब्द पुरुष जाति का है या स्त्री जाति का है। उस चिन्ह या Shabd की ही Ling ...

प्रत्यय किसे कहते हैं? उदाहरण

Pratyay Kise Kahate Hain. ऐसे शब्द जो दूसरे शब्दों के अन्त में जुड़कर, अपनी प्रकृति के अनुसार, शब्द के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं, प्रत्यय...

समास किसे कहते हैं? समास के भेद | प्रकार | उदहारण सहित | परिभाषा

Samas kise kahate hain. समास का शाब्दिक मतलब है संक्षिप्तीकरण। दो या दो से अधिक Shabd मिलकर एक नया एवं सार्थक शब्द की रचना...

----❤️----