शब्द शक्ति किसे कहते हैं? ❤️

शब्द शक्ति किसे कहते हैं। शब्द शक्ति के भेद कितने प्रकार के होते है। अभिधा, लक्षणा, व्यंजना Shabd shakti की परिभाषा उदाहरण सहित 
शब्द शक्ति किसे कहते हैं | शब्द शक्ति के भेद कितने प्रकार के होते है | अभिधा, लक्षणा, व्यंजना शब्द शक्ति की परिभाषा उदाहरण सहित

शब्द शक्ति किसे कहते हैं? परिभाषा

 "जिस शब्द का अर्थ बोध कराने की शक्ति होतो हो उसे शब्द शक्ति कहते हैं तथा शब्दों के अर्थ को जिन रीतियों  से ग्रहण किया जाता है, उन्हें शब्द शक्ति कहते हैं।"

शब्द शक्ति के भेद कितने प्रकार के होते है।

शब्द शक्ति के तीन भेद हैं
     1. अभिधा shabd shakti 
     2. लक्षणा शब्द शक्ति
     3. व्यंजना shabd shakti
सभी शब्द शक्ति  के प्रकार भेद विस्तार से

शब्द शक्ति के भेद कितने प्रकार के होते है।

1] अभिधा शब्द शक्ति

"जिस शक्ति से शब्द अपने स्वाभाविक साधारण बोल-चाल में प्रसिद्ध अर्थ को बताता है। उसे अभिधा shabd shakti कहते हैं।"
स्वाभाविक अर्थ को बताने वाला शब्द "वाचक" कहलाता है। इन शब्दों के अर्थ को वाच्यार्थ कहते हैं।
जैसे कि - मैंने पानी पिया।
ऊपर के उदाहरण में यहाँ रेखांकित शब्द "पानी" का अर्थ सामान्य रूप से पेय सामग्री से है। साधारण अर्थ है।




2] लक्षणा शब्द शक्ति

"जहां कोई शब्द अपने सामान्य अर्थ को छोड़कर विशेष अर्थ प्रकट होता है हो वहां लक्षणा shabd shakti होती हैं।"
जो शब्द लक्षणा से अर्थ बतायें। उसे लक्षक कहते हैं। लक्षक के अर्थ को लक्ष्यार्थ कहते हैं।
जैसे कि-  गरीबों की रोटी मत छीनो
उपर के वाक्य यहाँ रेखांकित शब्द "रोटी" का सामान्य अर्थ है।

3] व्यंजना शब्द शक्ति

जो अर्थ अभिधा और लक्षणा से नहीं बताया जा सके या जब शब्द अपने सामान्य अर्थ को छोड़ कर बहुत सा विशेष अर्थ प्रकट हो तो वह व्यंजना shabd shakti कहलाती है।
जैसे कि : नरेंद्र मोदी भारत के "शेर" है।
ऊपर के उदाहरण में "शेर" के बहुत से अर्थ प्रकट होते हैं
शेर - बहादुर,
शेर - सर्वश्रेष्ठ,
शेर - सर्वोत्कृष्ट
इसलिए इस वाक्य में व्यंजना शब्द शक्ति है।

शब्द शक्ति किसे कहते हैं। शब्द शक्ति के भेद कितने प्रकार के होते है। अभिधा, लक्षणा, व्यंजना तीनों शब्द शक्ति की परिभाषा देते हुए उनके उदाहरण सहित व्याख्या कि यदि दी गई जानकारी से संतुष्ट हो तो कृपया कमेंट करके बताए एवं अन्य लेख पढ़ने के लिए मुख्य पृष्ठ पर जाएं या नीचे के लेख पढ़ें!

ये भी पढ़ें:

हिंदी व्याकरण Complete Hindi Grammar-

भाषा Bhasha,   वर्णमाला Varnmala,   वर्ण Varn,  शब्द Shabd,   संज्ञा Sangya,   वाक्य Vakya 

सर्वनाम Sarvnam,     लिंग Ling,     कारक Karak,    अलंकार Alankar,    विशेषण Visheshan,    काल kaal,

उपसर्ग Upsarg,    क्रिया विशेषण Kriya Visheshan,     संधि Sandhi,    प्रत्यय Pratyay,    क्रिया Kriya,    वचन Vachan,

-----------♦------------

Read More Posts 

कारक किसे कहते हैं? परिभाषा

Karak in Hindi Grammar कारक की परिभाषा , भेद और उदाहरण- "कारक उसे कहते हैं, जो Vakya में आये संज्ञा आदि शब्दों का क्रिया के साथ संबंध बताती ... 

सर्वनाम किसे कहते हैं? परिभाषा एवं भेद | उदहारण सहित

Sarvanam kise kahate hain. जिन शब्दों का इस्तेमाल संज्ञा शब्द के स्थान पर  प्रयुक्त होता है। उन शब्दों को ...

विशेषण किसे कहते हैं? प्रकार | भेद | परिभाषा

Visheshan kise kahate hain. वे शब्द जो  Sangya या Sarvanam की विशेषता बताएं विशेषण होते हैं...

लिंग किसे कहते हैं? लिंग कितने होते है

Ling kise kahate hain. जिस चिह्न से यह बोध होता हो कि अमुक शब्द पुरुष जाति का है या स्त्री जाति का है। उस चिन्ह या Shabd की ही Ling ...

प्रत्यय किसे कहते हैं? उदाहरण

Pratyay Kise Kahate Hain. ऐसे शब्द जो दूसरे शब्दों के अन्त में जुड़कर, अपनी प्रकृति के अनुसार, शब्द के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं, प्रत्यय...

समास किसे कहते हैं? समास के भेद | प्रकार | उदहारण सहित | परिभाषा

Samas kise kahate hain.  समास का शाब्दिक मतलब है संक्षिप्तीकरण। दो या दो से अधिक Shabd मिलकर एक नया एवं सार्थक शब्द की रचना...

----❤️----





Comments