उपसर्ग किसे कहते हैं? [परिभाषा] - Upsarg Kise Kahate Hain]

उपसर्ग किसे कहते हैं परिभाषा => ऐसे शब्दांश को कहते हैं. जो किसी शब्द के पूर्व जुड़ कर उसके अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं या उसके अर्थ में विशेषता लाते हैं, उन्हें उपसर्ग कहते हैं। अन्य शब्दों में= शब्द के पूर्व लगने वाले शब्दांश जो कि शब्द के अर्थ को बदल दे उपसर्ग होते हैं।
उपसर्ग किसे कहते हैं? उपसर्ग की परिभाषा


उपसर्ग किसे कहते हैं। उपसर्ग की परिभाषा/upsarg-kise-kahate-hain 

उपसर्ग किसे कहते हैं? परिभाषा

»किसे कहें उपसर्ग परिभाषा: "ऐसे शब्दांश को कहते हैं, जो किसी शब्द के पूर्व जुड़ कर उसके अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं या उसके अर्थ में विशेषता लाते हैं, उन्हें उपसर्ग कहते हैं।"«

या "शब्द के पूर्व लगने वाले शब्दांश जो कि शब्द के अर्थ को बदल दे Upsarg होते हैं।"
जैसे कि  अन+पढ़=अनपढ़
ऊपर के उदाहरण में "अन" उपसर्ग हैं।
हिन्दी भाषा में होने वाला उपसर्ग नीचे
उपसर्ग किसे कहते हैं। उपसर्ग की परिभाषा - upsarg kise kahate hain in hindi

उपसर्ग की परिभाषा बताइए हिंदी में

उपसर्ग की परिभाषा = “जो शब्दांश किसी शब्द से पूर्व जुड़ कर उस शब्द के अर्थ को परिवर्तित कर दे, उन्हें उपसर्ग कहते हैं।”

★ अपि उपसर्ग : अपि उपसर्ग को "हिंदी व्याकरण" में उपसर्ग नहीं माना गया है।

उपसर्ग के प्रकार या वर्गीकरण या भेद

उपसर्गों को पाँच भागों में वर्गीकृत किया गया है-
1] हिंदी के उपसर्ग 
2] संस्कृत के उपसर्ग
3] अव्यय उपसर्ग
4] संख्या उपसर्ग
5] उर्दू के उपसर्ग
उपसर्ग के प्रकार या वर्गीकरण या भेद


सभी उपसर्गों में वर्गीकरण अनुसार उदहारण की लिस्ट नीचे दी गई है। आप उपसर्ग के उदाहरण सहित लेख को पढ़ने के बाद नीचे के संबंधित लेख भी पढ़ें एवं एक अच्छी सी कमेंट अवश्य करें जिससे हमें आपका मार्गदर्शन मिल सकें!

1. हिंदी भाषा के उपसर्ग के उदाहरण
अ 
  अ + कूत = अकूत
  अ + थक = अथक  
  अ + मिट = अमिट
  अ + मित = अमित
  अ + पत = अपत
  अ + कथ = अकथ
  अ + टल = अटल
  अ + टूट = अटूट
  अ + शेष = अशेष
  अ + मोल = अमोल
 
  
  स + परिवार = सपरिवार
  स + सम्मान = ससम्मान
  स + तेज = सतेज
  स + फल = सफल
  स + काम = सकाम
  स + पूत = सपूत
  स + घोष = सघोष
  स + खेद = सखेद
  
     
  न + इच्छुक = नेच्छुक
  न + उचित = नोचित
  न + पुंसक = नपुंसक
  न + गण्य = नगण्य
 
अन  
  अन + देखा = अनदेखा
  अन + मेल = अनमेल
  अन + मोल = अनमोल
  अन + ब्याहा = अनब्याहा
  अन + सुना = अनसुना
  अन + चखा = अनचखा
  अन + भिज्ञ = अनभिज्ञ
  अन + जान = अनजान
  
उन/उन्  
  उन + चास = उनचास
  उन + सठ = उनसठ
  उन + हतर = उनहतर
  उन + तीस = उनतीस
  उन + तालीस = उन्तालीस
  उन + असी = उनासी
  उन् + नब्बे = उन्नब्बे

अन् 
  अन् + आदर = अनादर
  अन् + इच्छा = अनिच्छा
  अन् + रत = अनृत
  अन् + एक = अनेक
  अन् + इच्छिक = अनैच्छिक
  अन् + इप्सित = अनीप्सित
  अन् + उचित = अनुचित
  अन् + उर्वर = अनुर्वर
  अन् + ओजस्वी = अनोजस्वी
 
  
  औ + नत = औनत
  औ + ढर = औढर
  औ + चक = औचक
  औ + घड़ = औघड़
  औ + दान = औदान
  औ + सत = औसत
  
  
 क + पूत = कपूत
 क + पूत = कपूत
 
कु  
  कु + जात = कुजात
  कु + शासन = कुशासन
  कु + बुद्धि = कुबुद्धि
  कु + नीति = कुनीति
  कु + कर्म = कुकर्म
  कु + कीर्ति = कुकीर्ति
  कु + यश = कुयश
  कु + ख्यात = कुख्यात
  कु + योग = कुयोग
  कु + चेष्टा = कुचेष्टा
  कु + चक्र = कुचक्र
  
नि  
  नि + धड़क = निधड़क
  नि + डर = निडर
  नि + कम्मा = निकम्मा
  नि + ठल्ला = निठल्ला
  नि + मुछिया = निमुछिया

2] संस्कृत भाषा के उपसर्ग उदहारण
       संस्कृत व्याकरण में 22 उपसर्ग बताए  गए हैं, इनमें से 'अपि' उपसर्ग को छोड़ कर हिंदी व्याकरण में 21 उपसर्ग स्वीकार किये गए हैं

'परा' उपसर्ग
   परा + भव= पराभव 
   परा + क्रम=पराक्रम 
   परा + भूत=पराभूत
   परा + काष्ठा=पराकाष्ठा 
   परा + जीत=पराजित 

'प्र' उपसर्ग
   प्र + कार= प्रकार  
   प्र + जाति=प्रजाति 
   प्र + नति प्रणति 
   प्र + आचार्य= प्राचार्य 
   प्र + अध्यापक= प्राध्यापक 
   प्र + उन्नत= प्रोन्नत 
   प्र + उज्ज्वल=प्रोज्ज्वल 
   प्र + कोप=प्रकोप 
   प्र + भाव= प्रभाव 
   प्र +  ताप=प्रताप
   प्र + साद= प्रसाद

' अप' उपसर्ग 
   अप +  वाह= अपवाह 
   अप +  वाद=अपवाद 
   अप + गति= अपगति 
   अप + नयन=अपनयन 
   अप + नयम=अपनयम 
   अप + क्रमण= अपक्रमण 
   अप + शब्द= अपशब्द 
   अप + यश=अपयश 
   अप + कर्म= अपकर्म 
   अप + एही= अपेही   

अनु  
   अनु + चर= अनुचर  
   अनु + सार =  अनुसार
   अनु + नाद =  अनुनाद
   अनु + भव =  अनुभव
   अनु + कृति = अनुकृति
   अनु + गामी= अनुगामी 
    अनु + मान= अनुमान  
   अनु + शासन= अनुशासन 
   अनु + वाद=अनुवाद   
   अनु + पूरक अनुपूरक 


'सम्' उपसर्ग के उदाहरण
   सम् + एकित समेकित 
   सम् +  ओजस्वी=समोजस्वी 
   सम् +  अचार =समाचार 
   सम्  +  मति=सम्मति 
   सम् + मान= सम्मान 
   सम् + मुख= सम्मुख 
   सम् + मिश्रण= सम्मिश्रण 
   सम् + मोहन= सम्मोहन  
   सम्  +  उन्नत=समुन्नत। 


अव  
  अव + हेलना = अवहेलना
  अव + नति =  अवनति
  अव + धारणा =  अवधारणा
  अव + दान =  अवदान
  अव + गुण = अवगुण
  अव + आज्ञा =  अवाज्ञा
  अव + मानना =  अवमानना
  अव + सर =  अवसर
  अव + रोध = अवरोध
  अव + क्षरण =  अवक्षरण
  
निस्  
  निस्संतान =  निस्संतान
  निस्संदेह =  निस्संदेह
  निस्तेज =  निस्तेज
  निस्तारण =  निस्तारण
  निस्सह =  निस्सह
  निश्शुल्क =  निश्शुल्क
  निश्छल = निश्छल
  निष्ठुर =  निष्ठुर
  निष्पाप = निष्पाप
  निष्फल निष्फल

दुस्  
  दुस् + फल =  दुष्फल
  दुस् + प्रचार = दुष्प्रचार
  दुस् + परिणाम = दुष्परिणाम
  दुस् + प्रभाव =  दुष्प्रभाव
  दुस् + संताप = दुस्संताप
  दुस् + साहस =  दुस्साहस
  दुस् + सह =  दुस्सह
  दुस् + तर =  दुस्तर
  दुस् + कर्म =  दुष्कर्म
  दुस् + तर =  दुस्तर
  दुष् + प्राप्य = दुष्प्राप्य

निर्  
  निर् + उत्तर = निरुत्तर
  निर् + धन = निर्धन
  निर् + गुण = निर्गुण
  निर् + देश = निर्देश
  निर् + नीमेष = निर्निमेष
  निर् + अतर = निरंतर
  निर् + आदर = निरादर
  निर् + इच्छ =  निरिच्छ
  निर् + बल = निर्बल
  निर् + धारण = निर्धारण
  निर् + मुक्त = निर्मुक्त

दुर्  
  दुर् + गति =  दुर्गति
  दुर् + दशा =  दुर्दशा
  दुर् + बूद्धि =  दुर्बुद्धि
  दुर् + जन =  दुर्जन
  दुर् + भीक्ष =  दुर्भिक्ष
  दुर् + गुण =  दुर्गुण
  दुर् + नीति =  दुर्नीति
  दुर् + आशा = दुराशा
  दुर् + बल = दुर्बल
  दुर् + उत्साह =  दुरुत्साह
  दुर् + भाग्य =  दुर्भाग्य
  दुर् + बोध = दुर्बोध

आ   
  आ + जानु =  आजानु
  आ + देश =  आदेश
  आ + वर्तन =  आवर्तन
  आ + कूल =  आकूल
  आ + बद्ध =  आबद्ध
  आ + दान =  आदान
  आ + पात =  आपात
  आ + दर्श = आदर्श
  आ + कंठ = आकंठ
  आ + कंठ =  आकंठ
  आ + योजन =  आयोजन

नि  
  नियोग =  नियोग
  निनाद = निनाद
  निवेदन =  निवेदन
  निगम =  निगम
  निषिद्ध =  निषिद्ध
  निषेध =  निषेध
  निमेष =  निमेष
  निकास = निकास
  निमेष = निमेष
  नियम = नियम
  निसेव्य =  निसेव्य
  निषाद =  निषाद

वि  
  वि +  वह = व्यूह
  वि + नियोजन = विनियोजन
  वि + जय = विजय
  वि + पन्न =  विपन्न
  वि + देश =  विदेश
  वि + माता =  विमाता
  वि + युत्पत्ति =  वियुत्पत्ति
  वि + अय = व्यय
  वि +  आकरण = व्याकरण
  वि + धान =  विधान
  वि + ज्ञान =  विज्ञान

अधि  
  अधि + युक्ति =  अध्युक्ति
  अधि + कारी =  अधिकारी
  अधि + गम = अधिगम
  अधि + अक = अधिक
  अधि + नायक =  अधिनायक
  अधि + भार =  अधिभार
  अधि + कृत = अधिकृत
  अधि- आदेश =  अध्यादेश
  अधि + शेष =  अधिशेष

सु   
  सु + कुमार = सुकुमार
  सु + गम = सुगम
  सु + परिचित =  सुपरिचित
  सु + योग्य = सुयोग्य
  सु + देश = सुदेश
  सु + पुत्र =  सुपुत्र
  सु + कर्म =  सुकर्म
  सु + शासन =  सुशासन
  सु + नीति = सुनीति
  सु + बोध = सुबोध
  सु + यश = सुयश

अति   
  अति + युक्ति =  अत्युक्ति
  अति + आशा = अत्याशा
  अति + शय =  अतिशय
  अति + उग्र =  अत्युग्र
  अति + क्रमण =  अतिक्रमण
  अति + भार =  अतिभार
  अति + शीत =  अतिशीत
  अति + आचार =  अत्याचार
  अति + इव = अतीव

उत्  
  उत् + योग = उद्योग
  उत् + नति = उन्नति
  उन् + मेष = उन्मेष
  उन् + मुख = उन्मुख
  उत् + लास = उल्लास
  उत् + कृष्ट = उत्कृष्ट
  उत् + पन्न = उत्पन्न
  उत + तर =  उत्तर
  उत् + गम = उद्गम
  उत् + बोधन = उद्बोधन
  उत् + लेख = उल्लेख
  उत् + आवास = उच्छवास

परि   
  परि + णय = परिणय
  परि + आप्त = पर्याप्त
  परि + एक = पर्यंक
  परि + आवरण = पर्यावरण
  परि + धान = परिधान
  परि + क्रमा = परिक्रमा
  परि + भ्रमण = परिभ्रमण
  परि + माण = परिमाण
  परि + णाम = परिणाम
  परि + पूर्ण = परिपूर्ण
  परि + इक्षा =  परीक्षा

उप   
  उप + कृत = उपकृत
  उप + नाम = उपनाम
  उप + आगम = उपागम
  उप + नयन = उपनयन
  उप + योग = उपयोग
  उप + करण = उपकरण
  उप + शमन = उपशमन
  उप + आदान = उपादान
  उपमान = उपमान
  उप + अध्यक्ष = उपाध्यक्ष
 
अभि  
 अभि + शमन = अभिशमन
 अभि + उदय = अभ्युदय
 अभि + उगत =  अभ्यागत
 अभि + उत्थान = अभ्युत्था
 अभि + करण = अभिकरण
 अभि + सार = अभिसार
 अभि + नति = अभिनति
 अभि + ज्ञ = अभिज्ञ
 अभि + नय  = अभिनय

प्रति 
 प्रति + एक =  प्रत्येक
 प्रति + अर्पण = प्रत्यर्पण
 प्रति + उक्ति = प्रत्युक्ति
 प्रति + इक = प्रतीक
 प्रति + कृति =  प्रतिकृति
 प्रति + लिपि =  प्रतिलिपि
 प्रति + दान = प्रतिदान
 प्रति + पक्ष = प्रतिपक्ष
 प्रति + दिन =  प्रतिदिन
 प्रति + इति =  प्रतीति



3] उपसर्गवत् अव्यय उपसर्ग के उदाहरण
अंत  
  अंत + काल = अंतकाल
  अन्त + समय = अन्तसमय
  अंत + तः = अंततः
  अंत + वेला =  अंतवेला
  
अधः   
  अध: + गामी = अधोगामी
  अध: + तात = अधस्तात
  अध: + तल = अधस्तल
   अध: + मुखी = अधोमुखी
  अधः + पतित = अधःपतित 

अलम्  
 अलम् + कार = अलंकार
  अलम् + कृत = अलंकृत
  अलम् + करण = अलंकरण

अन्तः  
  अंतः + करण = अंतःकरण
  अंतः + पुर = अंतःपुर
  अंतः + पतित = अंतःपतित
  अंतः + कृत = अंतःकृत
  
अध   
  अध + मरा = अधमरा
  अध + कचरा = अधकचरा
  अध + कूटा = अधकूटा
  अध + भरा = अधभरा
 
आविस्    
  आविस् + कार = आविष्कार
  आविस् + कृत = आविष्कृत
  
आविर्   
  आविर् + भाव = आविर्भाव
  आविर् + भूत = आविर्भूत
  

तत्   
  तत् + मय = तन्मय
  तत् + नीति = तन्नीति
  तत् + लीन = तल्लीन
  तत् + चरण = तच्चरण
  तत् + काल = तत्काल
  तत् + पर = तत्पर
  तत् + सम = तत्सम
  तत् + दर्शन = तद्दर्शन
  तत् + वचन = तद्वचन
  तत् + छल =  तच्छल

चिर  
  चिर + काल = चिरकाल
  चिर + परिचित = चिरपरिचित
  चिर + आयु = चिरायु
 
चिरम्   
  चिरम् + तर = चिरन्तर
  चिरम् + तन = चिरंतन 

तिरो   
  तिरो + हित = तिरोहित
  तिरो + गामी = तिरोगामी
  तिरो + भूत = तिरोभूत 
तिरस्  
  तिरस् + कार = तिरस्कार
  तिरस् + कृत = तिरस्कृत
  तिरस् + करण = तिरस्करण
  
पुरा   
  पुरा + वशेष = पुरावशेष
  पुरा + तन = पुरातन
  पुरा + तत्त्व = पुरातत्त्व
  पुरा + पाषाण = पुरापाषाण
  
पुरो   
पुरो + हित = पुरोहित
  पुरो + गामी = पुरोगामी
  पुरो + वाक् = पुरोवाक्
  
परम   
  परम + आत्मा = परमात्मा
  परम + इश्वर = परमेश्वर
  परम + वंदनीय = परमवंदनीय
  परम + आदरणीय = परमादरणीय
  परम + पूज्य = परमपूज्य
  परम + ओजस्वी  = परमोजस्वी

नाना   
  नाना + विध = नानाविध
  नाना + भांति = नानाभांति
  
पर  
  पर + उपकार = परोपकार
  पर + आधीन = पराधीन
  पर + आश्रित = पराश्रित
  पर + हित = परहित
  पर + प्रेम = परप्रेम
  पर + जाया = परजाया
  पर + आलम्बी = परालम्बी

परिस्  
 परिस् + कार = परिष्कार
  परिस् + कृत = परिष्कृत
  परिस् + करण = परिष्करण
 
पुनः/पुनर्/पुनस्   
  पुनर् + विवाह = पुनर्विवाह
  पुनर् + मिलन = पुनर्मिलन
  पुनस् + चरण = पुनश्चरण
  पुनः + पुनः = पुनःपुनः
  पुनः + पूरित = पुनःपूरित
  पुनः + प्राप्ति = पुनःप्राप्ति
  पुनर् + जन्म = पुनर्जन्म
  पुनस् + चर्चा = पुनश्चर्चा
 
सत्   
  सत् + भाव = सद्भाव
  सत् + योग = सद्योग
  सत् + विचार = सद्विचार
  सत् + विचार = सद्विचार
  सत् + इच्छा = सदिच्छा
  सत् + कर्म = सत्कर्म
  सत् + परिणाम = सत्परिणाम
  सत् + पथ = सत्पथ
  सत् + कार = सत्कार
  सत् + गति = सद्गति
  सत् + उपयोग = सदुपयोग
 
सह   
  सह + गामिनी = सहगामिनी
  सह + धर्मिणी = सहधर्मिणी
  सह + योग = सहयोग
  सह + यात्री = सहयात्री
  सह + उदर = सहोदर
  
प्राक्  
  प्राग् + वारदान = प्राग्वारदान
  प्राग् + वेत्ता = प्राग्वेत्ता
   प्राक् + कथन = प्राक्कथन
  प्राक् + चरण = प्राक्चरण
  प्राक् + पतित = प्राक्पतित

प्रादुर्   
प्रादुर् + भाव = प्रादुर्भाव
  प्रादुर् + भूत = प्रादुर्भूत
 
बहिस्  
  बहिस् + कार = बहिष्कार
  बहिस् + चरण = बहिश्चरण
  बहिस् + कृत = बहिष्कृत
  बहिस् + शोधन = बहिश्शोधन

परिस्  
  परिस् + कार = परिष्कार
  परिस् + कृति = परिष्कृति
  परिस् + कार्य = परिष्कार्य
 
पुरस्   
  पुरस् + कार = पुरस्कार
  पुरस् + कृत = पुरस्कृत
  
पूर्व   
  पूर्व + जन्म = पूर्वजन्म
  पूर्व + ज = पूर्वज
  पूर्व + कथित = पूर्वकथित
  
बहिर्   
  बहिर् + भ्रमण = बहिर्भ्रमण
  बहिर् + भाग = बहिर्भाग
  बहिर् + जगति = बहिर्जगति
  बहिर् + गमन = बहिर्गमन
  बहिर् + अग = बहिरंग
 
बहिस्   
  बहिस् + कार = बहिष्कार
  बहिस् + कृत = बहिष्कृत
  बहिस् + करण = बहिष्करण
 
बहु   
  बहु + दान = बहुदान
  बहु + मत = बहुमत
  बहु + रूप = बहुरूप
  बहु + गुण = बहुगुण
  बहु + वचन = बहुवचन
  बहु + भाषा = बहुभाषा
 
बिन   
  बिन + बोले = बिनबोले
  बिन + सुने = बिनसुने
  बिन + कहे = बिनकहे
  बिन + जाने = बिनजाने
  बिन + चाहा = बिनचाहा
 
महा   
  महा + वत = महावत
  महा + दान = महादान
  महा + कार = महकार
  महा + इच्छा = महेच्छा
  महा + देव = महादेव
  महा + वीर = महावीर
  महा + काय = महाकाय
  महा + इश्वर = महेश्वर
  महा + उर्जा = माहोर्जा
  महा + उष्मा = महोष्मा
 
लघु  
  लघु + जीवन = लघुजीवन
  लघु + शंका = लघुशंका
  लघु + रूप = लघुरूप
  
वृहत्   
  वृहत् + तर = वृहत्तर
  वृहत् + नला = वृहन्नला
  वृहत् + मना = बृहन्मना
  वृहत् + जीवन = वृहज्जीवन
  वृहत् + जगति = वृहज्जगति

सम   
  सम + रूप = समरूप
  सम + तल = समतल
  सम + लम्ब = समलम्ब
  सम + जात = समजात
  सम + कक्ष = समकक्ष

यथा   
  यथा + बुद्धि = यथाबुद्धि
  यथा + आज्ञा = यथाज्ञा
  यथा + शक्ति = यथाशक्ति
  यथा + सामर्थ्य = यथासामर्थ्य
  यथा + योग्य = यथायोग्य
  यथा + उचित = यथोचित
  
यावत् 
  यावत् + समय = यावतसमय
  यावत् + जीवन = यावज्जीवन
  यावत् + धर्म = यावद्धर्म
  यावत् + लाभ = यावल्लाभ
  
स्व  
  स्व + कर्म = स्वकर्म
  स्व + रूप = स्वरूप
  स्व + आधीन = स्वाधीन
  स्व + रस = स्वरस
  
स्वयं  
  स्वयं + पाकी = स्वयंपाकी
  स्वयं + भोगी = स्वयंभोगी
  स्वयं + सेवक = स्वयंसेवक
  स्वयं + वर = स्वयंवर
  

4] संख्या उपसर्ग के उदाहरण

एक   
  एक + वचन = एकवचन
  एक + तरफ = एकतरफ
  एक + बार = एकबार
  
द्वि  
  द्वि + रद = द्विरद
  द्वि + वचन = द्विवचन
  द्वि + वेदी = द्विवेदी
  द्वि + प्रहर = द्विप्रहर
  द्वि(ज = द्विज

इक  
 इक + हरा = इकहरा
  इक + तरफा = इकतरफा
  इक + तारा = इकतारा
  
दु   
दु + पहिया = दुपहिया
  दु + मुखी = दुमुखी
  दु + पहर = दुपहर
  दु + शाला = दुशाला
  
दो   
दो + पहर = दोपहर
  दो + हड़ = दोहड़
  दो + राहा = दोराहा
  
ति   
  ति + पहिया = तिपहिया
  ति + रंगा = तिरंगा
  ति + कोना = तिकोना
  ति + राहा = तिराहा
 
चौ   
  चौ + बारा = चौबारा
  चौ + मुखा = चौमुखा
  चौ + पहिया = चौपहिया
  चौ + तरफा = चौतरफा
  चौ + हद्दा = चौहद्दा
  चौ + गुना = चौगुना
 
त्रि   
  त्रि + नेत्र = त्रिनेत्र
  त्रि + देव = त्रिदेव
  त्रि + रत्न = त्रिरत्न
  त्रि + कोण = त्रिकोण
  त्रि + काल = त्रिकाल
  त्रि + मुखी = त्रिमुखी

चतुस्   
  चतुस् + कोण = चतुष्कोण
  चतुस् + चरण = चतुश्चरण
  चतुस् + षष्ठी = चतुष्षष्ठी
  चतुस् + चरण = चतुश्चरण
 
चतुर्   
  चतुर् + यूग = चतुर्युग
  चतुर् + मुखी = चतुर्मुखी
  चतुर् + आनन = चतुरानन
  चतुर् + भूज = चतुर्भुज
  चतुर् + गुण = चतुर्गुण
  चतुर् + भाग = चतुर्भाग
 
पच   
   पच + रंगा = पचरंगा
 
  
 छ + मासा = छमासा
  
षट्  
  षट् + राग = षाड्राग
  षट् + आनन = षडानन
  षट् + पद = षट्पद
  षट् + कोण = 
  षट् + यन्त्र = षड्यन्त्र
  षट् + मुख = षण्मुख

पञ्च  
  पंच + रत्न = पंचरत्न
  पंच + तंत्र = पंचतंत्र
  पंच + वटी = पंचवटी
  पंच + मुखी = पंचमुखी
  पंच + पात्र = पंचपात्र
  
सप्त  
  सप्त + आह = सप्ताह
  सप्त + अंग = सप्तांग
  सप्त + पदी = सप्तपदी
  सप्त + सिंधु = सप्तसिंधु
  सप्त + सागर = सप्तसागर
  सप्त + आर्णव = सप्तार्णव
  सप्त + वर्ण = सप्तवर्ण

अठ   
अठ + मासा = अठमासा
  अठ + अन्नी = अठन्नी
 
नव   
  नव + रत्न = नवरत्न
  नव + रंग = नवरंग
  नव + निधि = नवनिधि
  नव + रात्र = नवरात्र
  नव + आह्न = नवाह्न
  नव + निधि = नवनिधि
  
सत   
सत + रंग = सतरंग
  सत + मासा = सतमासा
 
अष्ट  
  अष्ट + गंध = अष्टगंध
  अष्ट + भुजी = अष्टभुजी
  अष्ट + चक्र = अष्टचक्र
  अष्ट + धातु = अष्टधातु
  अष्ट + अंग = अष्टांग
 
दश   
  दश + आनन = दशानन
  दश + कंधर = दशकंधर
  दश + आब्दी = दशाब्दी
  दश + अक = दशक
 
शत्   
  शत् + आब्दी = शताब्दी
  शत् + अक = शतक
  शत् + आयु = शतायु
  
सहस्त्र   
  सहस्त्राब्दी = सहस्त्राब्दी
  सहस्त्र + अक्ष = सहस्त्राक्ष
  सहस्त्र + बाहु = सहस्त्रबाहु
 

5] उर्दू लिपि के उपसर्ग के उदाहरण
अल  
  अल + मस्त = अलमस्त
  अल + ग़रज़ = अलग़रज़
  अल + बेला = अलबेला
  अल + हदा = अलहदा
  
गैर  
  गैर + हाज़िर = गैरहाज़िर
  गैर + जवाबी = गैरजवाबी
  गैर + वाजिब = गैरवाजिब
  गैर + जमानती = गैरजमानती
  
दर   
  दर + किनार = दरकिनार
  दर + असल = दरअसल
  दर + मियान = दरमियान

कम  
 कम + सिन = कमसिन
  कम + ज़ोर = कमज़ोर
  कम + अक्ल = कमअक्ल
  
ख़ुश   
  खुश + नुमा = खुशनुमा
  खुश + हाल = खुशहाल
  खुश + किस्मत = खुशकिस्मत
  खुश + बू = खुशबू
  खुश + गवार = खुशगवार
  
ना   
  ना + पाक = नापाक
  ना + पसंद = नापसंद
  ना + राज = नाराज
  ना + फरमान = नाफरमान
  ना + काफी = नाकाफी
 
बर  
  बर + बस = बरबस
  बर + बाद = बर्बाद
  बर + खुरदार = बरखुरदार
  बर + हाल = बरहाल
  बर + दास्त = बर्दास्त

बद   
  बद + नसीब = बदनसीब
  बद + गुमान = बदगुमान
  बद + हवास = बदहवास
  बद + बू = बदबू
 
बे   
  बे + हद = बेहद
  बे + हया = बेहया
  बे + दर्द = बेदर्द
  बे + बाक = बेबाक
  बे + हिसाब = बेहिसाब
  बे + उम्मीद = बेउम्मीद
 
हर   
  हर + हाल = हरहाल
  हर + पल = हरपल
  हर + दिन = हरदिन
  हर + हाल = हरहाल
 
  
  ब + शर्ते = बशर्ते
  ब + दौलत = बदौलत
  ब + कौल = बकौल
 
सर  
  सर + फ़रोश = सरफ़रोश
  सर + गोशी = सरगोशी
  सर + ताज = सरताज
  सर + हद = सरहद
  सर + परस्त = सरपरस्त
  
ऐन  
  ऐन + वक्त = ऐनवक्त
  ऐन + इनायत = ऐनइनायत
  ऐन + मौका =  ऐनमौका

हम   
  हम + शक्ल = हमशक्ल
  हम + नवा = हमनवा
  हम + दम = हमदम
  हम + दर्द = हमदर्द
  हम + साया = हमसाया
  हम + सफर = हमसफर
 
ला   
  ला + पता = लापता
  ला + परवाह = लापरवाह
  ला + नत = लानत
  ला + वारिस = लावारिस
  ला + चार = लाचार

बिला   
  बिला + पता = बिलापता
  बिला + हिसाब = बिलहिसाब
  बिला + वजह = बिलावजह
 
ख़ुद   
  ख़ुद + दार = खुद्दार
  खुद + किस्मत = खुदकिस्मत
  खुद + गर्ज = खुदगर्ज
 
खूब  
  खूब + सूरत = खूबसूरत


बा   
  बा + कायदा = बाकायदा
  बा + मुलाहजा = बामुलाहजा
  बा + अदब = बाअदब
  बा + ख़बर = बाख़बर
 
फी , फि  
  फि + आदमी = फिआदमी
  फी + रोज = फीरोज

 उपसर्ग किसे कहते हैं। और उपसर्ग की परिभाषा से संबंधित यह लेख आपके लिए लेकर आया यदि अपको कोई सवाल हो तो कृपया कमेंट करके अवश्य जाएं।

ये भी पढ़ें: 

हिंदी व्याकरण Complete Hindi Grammar-   

भाषा Bhasha,    वर्णमाला Varnmala,  वर्ण Varn,  शब्द Shabd,  संज्ञा Sangya,   वाक्य Vakya

सर्वनाम Sarvnam,      लिंग Ling,     कारक Karak,   अलंकार Alankar,    विशेषण Visheshan,    काल kaal,

उपसर्ग Upsarg,     क्रिया विशेषण Kriya Visheshan,    संधि Sandhi,   प्रत्यय Pratyay,    क्रिया Kriya,     वचन Vachan,

------------♦------------

Read More Posts 

कारक किसे कहते हैं? परिभाषा

Karak in Hindi Grammar कारक की परिभाषा , भेद और उदाहरण- "कारक उसे कहते हैं, जो Vakya में आये संज्ञा आदि शब्दों का क्रिया के साथ संबंध बताती ....

सर्वनाम किसे कहते हैं? परिभाषा एवं भेद | उदहारण सहित

Sarvanam kise kahate hain. जिन शब्दों का इस्तेमाल संज्ञा शब्द के स्थान पर प्रयुक्त होता है।  उन शब्दों को ...

विशेषण किसे कहते हैं? प्रकार | भेद | परिभाषा

Visheshan kise kahate hain. वे शब्द जो Sangya  या Sarvanam की विशेषता बताएं विशेषण होते हैं...

लिंग किसे कहते हैं? लिंग कितने होते है

Ling kise kahate hain. जिस चिह्न से यह बोध होता हो कि  अमुक शब्द पुरुष जाति का है या स्त्री जाति का है। उस चिन्ह या Shabd की ही Ling ...

प्रत्यय किसे कहते हैं? उदाहरण

Pratyay Kise Kahate Hain. ऐसे शब्द जो दूसरे शब्दों के अन्त में जुड़कर, अपनी प्रकृति के  अनुसार, शब्द के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं, प्रत्यय...

समास किसे कहते हैं? समास के भेद | प्रकार | उदहारण सहित | परिभाषा

Samas kise kahate hain. समास का शाब्दिक  मतलब है संक्षिप्तीकरण। दो या दो से अधिक Shabd मिलकर एक नया एवं सार्थक शब्द की रचना...

----❤️----