विटामिन किसे कहते हैं? [प्रकार – विटामिन A, B, C, D, E एवं K]

विटामिन (Vitamins) किसे कहते हैं | विटामिन कितने प्रकार के होते हैं | विटामिन A, B, C, D, E एवं K क्या है- In Hindi. Different Types of Vitamins हिंदी में!

यह ऐसे कार्बनिक यौगिक होते हैं| जो-की चाहे थोड़ा कम मात्रा में ही सही लेकिन हमारे शरीर के उचित कार्य प्रणाली के लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी व महत्वपूर्ण है। विटामिन की कमी शरीर को रोगों से ग्रसित कर सकती है।

विटामिन (Vitamins) किसे कहते हैं | विटामिन कितने प्रकार के होते हैं | विटामिन A, B, C, D, E एवं K क्या है- In Hindi

विटामिन क्या होते हैं। (What is Vitamins In Hindi)

यह हमारें शरीर को भोज्य पदार्थो से यानी भोजन से प्राप्त होता है। शरीर खुद से विटामिन नहीं बनता या बहुत ही कम मात्रा में बनता है तो इनकी कमी को पूरा करने केलिए हमें इसे भोजन से प्राप्त करते हैं।


अलग अलग प्रकार के जीव-जंतु को अलग-अलग तरह के विटामिन शरीर के लिए जरूरी होते है| जिसमे से मनुष्य का शरीर विटामिन C नहीं बना सकता तो हमारे शरीर को यह भोजन से लेना पड़ता है| किन्तु कुछ ऐसे जानवर भी है जैसे की कुत्ता, जिनका शरीर खुद विटामिन C का निर्माण करता है इसलिए उन्हें उसकी जरूरत काम होती है।


विटामिन कितने प्रकार के होते हैं।

सभी प्रकार के विटामिन को हम नीचे क्रमिक रुप से विस्तार वर्णन बता रहे हैं!


विटामिन ए [Vitamin A]

        विटामिन A का रासायनिक नाम रेटिनॉल (Retinol) है। 

        विटामिन A का मुख्य काम है हमारी मांसपेशियाँ एवं हड्डी को मज़बूती देना है|

        ये खून में कैल्शियम का संतुलन बनाये रखता है| एवं मुँहासो के इलाज के लिए भी उपयोगी है। 

       इसकी कमी से हमे आँखों के रोग हो सकते है।

       विटामिन ए (Vitamin A) के मुख्य स्रोत है: दूध, हरी सब्ज़ियां, पनीर। ये हमारे बालो को भी स्वस्थ रखता है।


विटामिन बी [Vitamin B]

विटामिन बी इसके कई प्रकार है। जिन्हे हम बताने जा रहे हैं!

        विटामिन बी 1

        रासायनिक नाम: थाइमिन (Thaimine)

         यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

        फायदे: मस्तिष्क को विकसित रखने के लिए बहुत ही उपयोगी है।

        इसकी कमी से हमे बेरीबेरी रोग हो सकता है।

         स्रोत: सूरजमुखी के बीज, अनाज, आलू, संतरे और अंडे।

        विटामिन बी 2

       रासायनिक नाम: राइबोफ्लेविन

       यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

       फायदे: त्वचा को अच्छी रखने के लिए बहुत ही उपयोगी है।

       स्रोत: केला, दूध, दही, मास, अंडे, हरी बीन्स और मछली।

       विटामिन बी 3 

       रासायनिक नाम: नियासिन (Niacin)

        फायदे: रक्तचाप को नियंत्रण में रखने और सिरदर्द, दस्त को कम करती है।

        यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

        स्रोत: खजूर, दूध, अंडे, टमाटर, गाजर, एवोकाडो।

        विटामिन बी – 5

           रासायनिक नाम: पैंटोथेनिक एसिड

           फायदे: बालो को स्वस्थ और सफेद होने से बचाता है। 

            इससे तनाव भी कम होता है।

            यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

            स्रोत: एवोकैडो, अनाज, मांस।

        विटामिन बी – 6

             रासायनिक नाम: प्यरीडॉक्सीने

              फायदे: यह सुबह की थकान कम करता है। 

               तनाव और अनिद्रा से भी मुख्ती देता है।

               यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

              स्रोत: अनाज, मांस, केले, सब्जियां

           विटामिन बी – 7

               रासायनिक नाम: बायोटिन

              फायदे: यह त्वचा और बालो के लिए बहुत ही अच्छा है। 

              इसकी कमी से हमे जिल्द की सूजन हो सकती है।

             यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

             स्रोत: अंडे की जर्दी (Egg yolk),

सब्जियां।

           विटामिन बी – 9

                रासायनिक नाम: फोलिक एसिड

               फायदे: यह त्वचा के लोग और गठिया के उपचार हेतु बहुत ही शक्तिशाली है।

               गर्भवती महिलाओं को यह लेने ही सलाह दी जाती है।

               यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

               स्रोत: पत्तीदार शाक भाजी, सूरजमुखी के बीज, कुछ फलो में भी यह होता है।

        विटामिन बी – 12

            फायदे: यह एनीमिया (खून की कमी), मुँह में अलसर जैसी बिमारियों को कम करता है।

            यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

            स्रोत: मछी, मास, दूध, अंडे और दूध दे बनाये उत्पादों में यह होता है।


विटामिन सी [Vitamin C]

         रासायनिक नाम: एस्कॉर्बिक एसिड

        यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

        यह हमारी त्वचा और हड्डियों के लिए बहुत ही आवश्यक है। 

         यह किसी घाव को ठीक करने में बहुत ही ज्यादा मदद करता है। 

        विटामिन सी की कमी हम फल और सब्ज़ियां खा कर पूरी कर सकते है। 

       टमाटर, ब्रोकोली में अच्छी मात्रा में विटामिन सी होता है। 

       यह गर्भवती महिलाओ, धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों को ज्यादा मात्रा में खाना चाहिए।


विटामिन डी [Vitamin D]

        यह फैट-सॉल्युबल विटामिन है।

        विटामिन डी हमारे शरीर में कैल्शियम अब्सॉर्ब करने में बहुत ही मदद करता है। 

        यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत करने में भी मदद करता है, दांतो की सड़न को कम करता है। 

         इसकी कमी से हमे सूखा रोग (Rickets) हो सकता है।

         तीन चीज़ो के ज़रिये हमे विटामिन डी मिल सकता है – त्वचा के माध्यम से, अपने आहार से, और पूरक से। 

         हमारा शरीर खुद विटामिन डी बना लेता है जब उसे सूरज की रौशनी मिलती है। 

          आहार की बात करे तो दूध और अंडे की जर्दी से भी हमे विटामिन डी मिल जाता है।


विटामिन ई [Vitamin E]

        रासायनिक नाम: (Tocopherols)

        यह फैट-सॉल्युबल विटामिन है।

         विटामिन E हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली मज़बूत बनाता है। 

          वनस्पति तेल, अनाज, बादाम, एवोकैडो, अंडे और दूध से हमे विटामिन Eमिल जाता है। 

        जिन लोगो को किसी प्रकार के यकृत रोग होते है उनको यह ज्यादा लेने के लिए कहा जाता है। 

        विटामिन Eके लिए कोई पूरक लेने से पहले डॉक्टर से जरूर परामर्श लें।


विटामिन के [Vitamin K]

        रासायनिक नाम: (Phylloquinone)

        यह फैट-सॉल्युबल विटामिन है।

         विटामिन के स्वस्थ हड्डियों और ऊतकों के लिए प्रोटीन बनाकर हमारे शरीर की मदद करता है।

          विटामिन्स हमारी सेहत के लिए बहुत ही जरुरी है। 

          इसलिए अपनी डाइट को इस प्रकार रखें के उसमे विटामिन्स जरूर हो।

संबंधित अन्य लेख:

         • प्रोटीन किसे कहते हैं। प्रकार। फायदे। आवश्यक मात्रा

         • वसा किसे कहते हैं। प्रकार। फायदे। आवश्यक मात्रा

         • कार्बोहाइड्रेट्स किसे कहते हैं। प्रकार। फायदे। आवश्यक मात्रा

इस लेख में मैंने जो आपको विटामिन (Vitamins) किसे कहते हैं क्या प्रकार कितने होते है सभी जानकारी आपको यदि अच्छी लगी हो तो कृपया अपने दोस्तो को शेयर करे एवं अपने कमेंट करके अवश्य जाएं! धन्यवाद्!

Comments