Frequency and impulse in Hindi : आवृत्ति और आवेग क्या है।

Frequency and impulse in Hindi | आवृत्ति और आवेग क्या है।

Frequency and impulse in Hindi | आवृत्ति और आवेग क्या है।

आवृत्ति और आवेग (Frequency and impulse) से संबंधित इस लेख में दोनों को बताया गया है अवश्य पढ़ें!


आवृत्ति (frequency in Hindi)  

      कोई आवृत घटना (बार-बार दोहराई जाने वाली घटना), इकाई टाइम में जितनी बार घटित होती है। उस Prakar की घटना को आवृत्ति (frequency) कहते हैं। Aavritti को किसी साइनाकार तरंग के कला परिवर्तन की Rate के रूप में भी Samjha जा सकता हैं । 


आवृति की इकाई हर्त्ज (साकल्स/सेकण्ड) होती है।


एक कम्पन पूरा करने में जितना Time लगता है, उसे आवर्त-काल कहते हैं ।


आवर्त काल = 1/आवृति

अर्थात, T = 1 / f


आवेग (Impulse in Hindi)

बल और समय के Antaral के गुणनफल को बल का आवेग कहते हैं ।


       यदि किसी पिंड पर एक नियम बल F को डेल्टा t समय के अंतराल के लिए लगाया जाये , तो उस बल का आवेग F * डेल्टा t होगा । 

आवेग एक सदिश-राशि है। 

इसकी दशा वही होगी जो बल की है।


     माना कि किसी पिण्ड-द्रव्यमान m है। इस पर नियम बल F को डेल्टा t समय के अंतराल के लिए लगाए वेग में डेल्टा v परिवर्तन होता है। 


तब न्यूटन के नियमानुसार-

F = m*a = m * डेल्टा v / डेल्टा t

F डेल्टा t = m डेल्टा t

अब  m डेल्टा v = डेल्टा p

इसलिए  F डेल्टा t = डेल्टा p


अतः किसी Pind को दिया गया आवेग, Pind में उत्पन्न संवेग परिवर्तन के Equal होता है । 


अतः आवेग का Matrak भी वही होता है जो संवेग (न्यूटन.सेकेण्ड) का है।


दोनों के बारे में बताया गया लेख आपको कैसा लगा आपको मैंने बताया था कि आवृत्ति और आवेग क्या है। किसे कहते हैं यह लेख आपको कैसा लगा आप हमें कमेंट करके अवश्य बताए।