प्रकाश विद्युत प्रभाव क्या है? – What Is Photoelectric Effect In Hindi

प्रकाश विद्युत प्रभाव क्या है? किसे कहते हैं? What Is Photoelectric Effect In Hindi

प्रकाश विद्युत प्रभाव क्या है? किसे कहते हैं? What Is Photoelectric Effect In Hindi
प्रकाश विद्युत प्रभाव क्या है

prakash-vidyut-prabhav

प्रकाश विद्युत प्रभाव (Photoelectric Effect) से हर प्रकार की जानकारी आपके लिए लेख में शमिल की है। जिसमें बताया जाएगा कि क्या है किसे कहते हैं। और इसके सूत्र परिभाषा और अन्य सूचना को आपको दिया जाता है।

जब कोई भी Padarth (धातु या अधातु ठोस, द्रव या गैसें) किसी विद्युत-चुम्बकीय विकिरण (जैसे X-ray, Visible light इत्यादि) से ऊर्जा शोषित करने के पश्चात Electron उत्सर्जित करता है| या Electron का उत्सर्जन करता हैं तो प्रकाश के इस प्रभाव को प्रकाश विद्युत प्रभाव (Photoelectric Effect) कहते हैं। 

प्रकाश विद्युत प्रभाव की प्रक्रिया में जो Electron निकलते हैं| उन्हें प्रकाश-इलेक्ट्रॉन (photoelectrons) कहते हैं|


 • विज्ञान किसे कहते हैं सभी शाखाएं एक साथ वर्णित

1887 मे H. Hurts ने यह प्रयोग किया| इसमे कुछ धातुओ (जैसे-Potassium, cesium, रूबीडियम इत्यादि) की सतह पर उपयुक्त आवृति वाला प्रकाश डालने पर उसमें से Electron निष्काषित होते हैं| इस परिघटना को प्रकाश विद्युत प्रभाव कहते हैं|

प्रकाश विद्युत प्रभाव प्रयोग से प्राप्त Result निम्न प्रकार:-

1] धातु की सतह से प्रकाश-पुंज टकराते ही Electron निष्काषित हो जाता है। अर्थात् प्रकाश पड़ने और Electron निकलने मे कोई समय-अंतराल नहीं होता है ।

2] निष्काषित Electrons की संख्या प्रकाश की तीव्रता के समानुपाती होती है ।

3] प्रत्येक धातु के लिए एक अभि-लक्षणिक न्यून-तम आवृति होती है। जिसे देहली-आवृति कहते है। 

देहली Frequency से कम Frequency पर प्रकाश विध्युत प्रभाव प्रदर्शित नही होता है। 

f ≥ fο आवृति पर निष्काषित Electron की कुछ गतिज-ऊर्जा होती है। 

गतिज ऊर्जा प्रयुक्त प्रकाश की आवृति के बढ़ने के साथ बढ़ जाती है।

निष्काषित Electron की गतिज ऊर्जा निम्न समीकरण से दी जाती है:

       hf=hf0+½MVm²

इसको निम्न-लिखित प्रकार से भी लिखा जा सकता है:-

      hf=Φ+Ek

जहाँ:

      h= प्लैंक नियतांक है, 

      f0= देहली आवृत्ति है (फोटॉन की न्यूनतम आवृत्ति जो प्रकाश-इलेक्टान निकालने में सक्षम है), 

      Φ= कार्य फलन (वर्क फंक्शन = पदार्थ के अन्दर से फर्मी लेवेल वाले electrons को बाहर निकालने के लिये आवश्यक न्यूनतम ऊर्जा) है

      Ek= प्रयोग में प्राप्त Electrons की अधिकतम ऊर्जा है।

 • विज्ञान किसे कहते हैं सभी शाखाएं एक साथ वर्णित

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया Comment करे और ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए Main Page पर जाएं या नीचे के लेख देखें!