गेहूं व गेंहू का आटा? के फायदे और उपयोग/Wheat and Wheat Flour. Benefits and Uses

गेहूं व गेंहू का आटा? के फायदे और उपयोग (Wheat and Wheat Flour. Benefits and Uses in Hindi)
गेहूं व गेंहू का आटा? के फायदे और उपयोग
गेहूं व गेंहू का आटा? के फायदे और उपयोग


गेहूं (Wheat) के बारे में आपको बता दे की इसका Vaigyanik नाम Triticum aestivum हैं. जो कि मध्य पूर्व क्षेत्र से आई एक घास ही है. जिसकी खेती दुनिया भर में की जाती है. और वर्ल्ड भर में, भोजन व अनाज के लिए उगाई जाने वाली धान्य फसलों मे मक्का के बाद गेहूं. दूसरी सबसे ज्यादा उगाई जाने वाले फसल (Crops) हैं.

अपने ऊपर गेहूं का थोड़ा परिचय देख आपको पता चल ही गया होगा. कि या कितनी मुख्य फसल व अनाज (Crops and grains) है जिसका Use इंडिया में भी बहुताय रूप से किया जाता है. इसके आगे आपकी इसके और इससे बनने वाला. गेहूं का आटा (Wheat Flour) जो कि बहुत ही ज्यादा सभी लोगो के लिए पौष्टिकता के लिए एवं अन्य व्यंजन के लिए use किया जाता है. उसकी भी सूचना की हिंदी में ही Share करेंगे।

और हां गेहूं के ठीक बाद तीसरे स्थान. धान का स्थान है। यह घास कुल का पौधा हैं। 

गेहूं से बने एवं इसके उपयोग (Wheat and Uses In Hindi)

1. गेहूं को पीस कर प्राप्त हुआ: आटा रोटी, डबलरोटी (ब्रेड), कुकीज, रस, सिवईं, केक, दलिया, पास्ता, नूडल्स आदि को बनाने ने Use होता हैं। 
2. गेहूं का किण्वन कर शराब, वोद्का, बियर एवं जैव-ईंधन भी Banaya जाता है. गेहूं का Use एक कम या फिर कहे की सीमित मात्रा मे पशुओं के चारे के लिए भी प्रयोग किया जाता है.
3. इसके भूसे को पशुओं के चारे के लिए एवं छत / छप्पर के लिए निर्माणसामग्री के तौर प्रयोग संभवतः किया जाता है।

गेहूं के आटे के फायदे और उपयोग (Benefits and Uses of Wheat Flour in Hindi)

आपको बता दे की गेहूं और गेहूं का आटा (Wheat Flour) बहुत ही ज्यादा फायदा पहुंचाने वाला है. एवं इसके तो बहुत सारे औषधिय गुण भी हैं. जो कि आपको इसके प्रयोग Upyog को भी बताया गया है.
1. गेहूं का आटा आपके वजन को नियंत्रित रखने में बेहद Madadgar होता है। गेहूं के आटे से बनी चीजों का Upyog किया जाए इससे वजन आसानी से Ghataya जा सकता है।
2. गर्मी में गेहूं का औषधि के रूप में सेवन बहुत Fayada Pahuchata है।
3. खांसी होने पर 250 ग्राम पानी में 20 ग्राम Gehu के दानों में नमक उबालें हुए पानी को पीने से खासी जल्दी सही हो जाती है. ध्यान रहे पानी को Ubalana जब तक है जब तक कि पानी की मात्रा एक तिहाई न रह जाए. फिर इस थोड़ा गरम-गरम पिए। लगभग एक सप्ताह तक।
4. अस्थियों के टूटने अथवा चटक जाने पर थोड़े गेहूं को तवे पर Bhunkar पीस लें अच्छा आटा जैसा बना ले ओर इस आटे जैसे चूर्ण को शहद के साथ चाटने से अस्थि भंग रोग जल्दी ही दूर होता है।
5.  से बने हरीरा में शक्कर एवं बादाम मिलाकर पिएं. जिससे आपकी याददाश्त यानी स्मरण शक्ति तेज होती है. एवं बढ़ती है जिससे आपके दिमाग की कमजोरी दूर होकर दिमाग तेज चलने लगता है. याददाश्त कम हो तो इसका Sevan se बहुत ज्यादा Fayada होता है.
6. मैदा और चावल से बनी चीजों के स्थान पर genhu के आंटे से बनी चीजों जा Istemal बेहतर रहता है.
7. 80 ग्राम गेहूं को रात में Water में भिगोकर सुबह अच्छी तरह पीसकर छान लें. आप इसमें थोड़ी मिश्री को भी मिला सकते है. और इस रस को पीने से शरीर में उत्पन्न गर्मी शांत होती है. और मूत्र से Releted रोगों में भी अच्छा Labh मिलता है।
लेख में जाना की गेहूं और इसके के आटे की रोटी पौष्ट‍िक होती है. यह तो सभी जानते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं. गेहूं के यह Fayade भी अच्छे से बताए. गेहूं के इन फायदों को जानकर आपको Good लगा होगा. इसके औषधीय गुण को भी बताया था यह लेख आपको कैसा लगा हमें Comment करके व Share करें जिससे की हमे आपको मार्गदर्शन मिल सके और अन्य गेहूं के Article के लिए और बनाने के लिए मिल सकें। 

Comments