नाटक और एकांकी में अंतर क्या है? बताइए | नाटक और एकांकी किसे कहते हैं

नाटक और एकांकी में अंतर क्या है बताइए | नाटक और एकांकी किसे कहते हैं | natak ekanki antar  

नाटक और एकांकी में अंतर क्या है बताइए | नाटक और एकांकी किसे कहते हैं | natak ekanki antar

नाटक किसे कहते हैं (Natak In Hindi)

यह काव्य का ही एक हिस्सा है, जो दृश्य काव्य के अन्तर्गत आता है| इसे यदि हम साधारण सी भाषा में कहें तो जो लोग TV, radio, or theater पर किसी Kahaniyo को विस्तार से अभिनय करते हुए प्रस्तुत करते हैं, उसे नाटक कहते हैं। 


नाटक में कई प्रकार के पात्र होते हैं जिन सभी के अपने नाम होते हैं, और उन्हें अलग अलग किरदार के अनुसार अभिनय करना पड़ता हैं। इस में बहुत सारे लोग Sajha होकर पर-फॉर्म करते हैं|

 और इसमें किसी भी वाक्या को अथवा कोई पूरी kahani को भाव के साथ हाथ, पैर, आंख, चेहरा सभी का इस्तेमाल करके लोगों के सामने अच्छी सी प्रस्तुति दी जाती हैं जैसे कि वो हमारे सामने ही घटित कहानी है।


एकांकी किसे कहते हैं (Ekanki In Hindi)

एक अंग वाले नाटक को ही एकांकी कहते हैं। आकार मे छोटा होने के कारण इसमें जीवन का खण्ड Chitra प्रस्तुत होता है| नाटक के समान इसके भी छः तत्व होते हैं।

English में इसे हम One act play शब्द से जानते हैं| और हिंदी में इसे एकांकी नाटक और एकांकी के नाम से जाना जाता है।

 एकांकी का अर्थ होता है| कि जब किसी नाटक में किसी एक व्यक्ति का ही संपूर्ण वर्णन हो वो भी उसकी युवावस्था के बाद तो हम उसे एकांकी कहते हैं।


                        • संज्ञा किसे कहते हैं इसकी परिभाषा एवं भेद


नाटक और एकांकी में क्या अंतर है Difference बताइए/Natak & Ekanki in Hindi

नाटक और एकांकी में कुछ मुख्य अंतर है जो कि आपको जानना आवश्यक है। अतः हम नीचे इनके मुख्य अंतर को लिख रहे हैं। किसी भी कक्षा में आपसे नाटक एवं एकांकी में अंतर के बारे पूछा जाता है जिसमें आपसे कोई पांच अंतर बताइए पूछा जाता है तो हमने इसमें आपको नीचे सभी अंतर दिए हैं।

• नाटक में अनेक अंक होते हैं| किन्तु एकांकी में केवल एक अंक पाया जाता है|

• नाटक में कई लोगों के बारे में प्रस्तुति की जाती है| किन्तु एकांकी में केवल एक के बारे में ही बताया जायेगा|

• नाटक में किसी भी पात्र अथवा चरित्र का क्रमशः Vikash दिखाया जाता है| लेकिन एकांकी में चरित्र पूर्णतः विकसित रूप से दिखाया जाता है|

• नाटक में Kathanak में फैलाव और विस्तार होता है| लेकिन एकांकी में घनत्व होता है यानी नाटक में हम और पात्र एवं Kahani को बढ़ा सकते हैं| किन्तु Ekanki में ऐसा नहीं किया जा सकता|

नाटक में आधिकारिक के साथ उसके सहायक एवं गौण कथाएं भी होती हैं लेकिन एकांकी में एक ही कथा का वर्णन होता है| 

• Natak की विकास प्रक्रिया धीमी होती है लेकिन Ekanki की विकास प्रक्रिया बहुत तीव्र होती है|


                            • उपन्यास और कहानी में अंतर


लेख आपको कैसा लगा आप नीचे कमेंट करके अवश्य बताए और अन्य दोस्तो तक पहुंचाए।

ये भी पढ़ें: 

हिंदी व्याकरण Complete Hindi Grammar-

भाषा Bhasha,   वर्णमाला Varnmala,   वर्ण Varn,  शब्द Shabd,   संज्ञा Sangya,   वाक्य Vakya

सर्वनाम Sarvnam,      लिंग Ling,     कारक Karak,    अलंकार Alankar,    विशेषण Visheshan,    काल kaal,

उपसर्ग Upsarg,    क्रिया विशेषण Kriya Visheshan,    संधि Sandhi,    प्रत्यय Pratyay,    क्रिया Kriya,    वचन Vachan,

------------♦------------

Read More Posts 

कारक किसे कहते हैं? परिभाषा

Karak in Hindi Grammar कारक की परिभाषा , भेद और उदाहरण-  "कारक उसे कहते हैं, जो Vakya में आये संज्ञा आदि शब्दों का क्रिया के साथ संबंध बताती ...  

सर्वनाम किसे कहते हैं? परिभाषा एवं भेद | उदहारण सहित

Sarvanam kise kahate hain . जिन शब्दों का इस्तेमाल संज्ञा शब्द के स्थान पर प्रयुक्त होता है। उन शब्दों को ...

विशेषण किसे कहते हैं? प्रकार | भेद | परिभाषा

Visheshan kise kahate hain.  वे शब्द जो Sangya या Sarvanam की विशेषता बताएं विशेषण होते हैं...

लिंग किसे कहते हैं? लिंग कितने होते है

Ling kise kahate hain. जिस चिह्न से यह बोध होता हो कि अमुक शब्द पुरुष जाति का है  या स्त्री जाति का है। उस चिन्ह या Shabd की ही Ling ...

प्रत्यय किसे कहते हैं? उदाहरण

Pratyay Kise Kahate Hain. ऐसे शब्द जो दूसरे शब्दों के अन्त में जुड़कर, अपनी प्रकृति के अनुसार, शब्द के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं, प्रत्यय...   

समास किसे कहते हैं? समास के भेद | प्रकार | उदहारण सहित | परिभाषा

Samas kise kahate hain. समास का शाब्दिक मतलब है संक्षिप्तीकरण। दो या दो से अधिक Shabd मिलकर एक नया एवं सार्थक शब्द की रचना...   

----❤️----